History of Indian Railway |भारतीय रेल का इतिहास

 भारतीय रेल, एकल प्रबंधन के अंतर्गत आने वाला, विश्व का सबसे बड़ा यातायात रेलवे उपक्रम है।

  •  भारत में प्रथम रेल यात्रा

 रेलवे की ऐतिहासिक यात्रा 16 अप्रैल 1853 को दोपहर के लगभग 3:30 बजे मुंबई से थाने के बीच 34 किलोमीटर दूरी तय करके पूरा किया गया था।

 इस रेलगाड़ी में 14 कोचेज लगे हुए थे। इस रेलगाड़ी को तीन लोकोमोटिव मिलकर चला रहे थे, जिसका नाम था सिंध, साहिब और सुल्तान।

 इस रेलगाड़ी में 400 अतिथि सवार थे। इस रेलगाड़ी ने अपने पूरी यात्रा 57 मिनट में तय की थी।

  •  भारत का पहला रेलवे टर्मिनल

 भारत में पहली रेलगाड़ी बोरीबंदर (CST) से 16 अप्रैल 1853 को चलाई गई थी। यह एक छोटा सा लकड़ी के ढांचा का ग्रेट इंडियन पेनिनसुलर का पहला रेलवे टर्मिनल था, जो भारत का सबसे सुंदर रेलवे स्टेशन बन चुका है। यह अब छत्रपति शिवाजी टर्मिनल के नाम से जाना जाता है। इसका पूर्व नाम विक्टोरिया टर्मिनल था। आधुनिक विक्टोरिया टर्मिनल (VT) 1878 से 1888 के मध्य बनाया गया था। इसके निर्माण में लगभग 10 वर्ष लगे थे। इसमें लगभग  16,35,362 रुपये खर्च हुए थे।

  •  भारत का पहला रेलवे ट्रैक

 भारत में रेलवे लाइनों को सार्वजनिक बनाने के लिए, रेलवे ट्रैक को मुख्य नहरों तथा खानो के पास बिछाया गया था। यह छोटी तथा हल्की रेलवे लाइन गंगा नहर के कार्य के लिए 1845 मैं बिछाई गई थी। इस रेलगाड़ी में कोचों को खींचने के लिए जानवरों की सहायता ली गई थी। लोगों के लिए पहले नियमित रेलवे ट्रैक 1853 में GIP द्वारा बिछाए गए थे, जिसे इंग्लैंड से आयात किया गया था।

  •  भारत में पहली रेलवे गेज लाइन

 भारत में चलने वाली पहले गेज लाइन नैरोगेज थी। यह वर्ष 1862 में बड़ौदा रेलवे लाइन में प्रयोग किया गया था। इस रेलगाड़ी को खींचने के लिए भी जानवरों का सहारा लिया जाता था।

 भारत में पहली बार नीलसन एंड कंपनी द्वारा 1863 में देभोई से मियांग्राम के बीच रेलगाड़ी को चलाने के लिए लोको बनाया गया था।

  •  भारत में प्रथम रेलवे रैक सिस्टम

 प्रथम भारतीय रेलवे रैक सिस्टम मेट्टूपलायम और ऊटी के मध्य शुरू किया गया। इसमें ग्रेडियंट बहुत अधिक होने के कारण इसके लोको में दोहरे जोड़े वाले सिलेंडर, इंजन के नीचे लगे मैकेनिज्म को चलाने के लिए प्रयोग किया गया। जिससे ट्रक के मध्य में लगे दांत वाली रेल के साथ लगकर इंजन को अतिरिक्त बल देता है और आगे धकेलता है।

  •  भारत में प्रथम रेलवे ब्रिज

 भारत में प्रथम रेलवे ब्रिज 1854 में थाने क्रीक के ऊपर बनाया गया था।

  •  भारत में सबसे लंबा रेलवे पुल

 भारत में सबसे लंबा रेलवे पुल कोलकाता से दिल्ली के मुख्य लाइन पर सासाराम के निकट सोन नदी के ऊपर बनाया गया डेहरी ऑन सोन है। इसकी लंबाई 3064 मीटर है।

  •  सबसे लंबी रेल सुरंग

 भारत में सबसे लंबी रेल सुरंग कोंकण रेलवे पर रत्नागिरी के समीप है। इसकी लंबाई 6. 5 किलोमीटर है।

  •  प्रथम डबल डेकर कोच

 भारत में प्रथम डबल डेकर कोच मुंबई बड़ौदा तथा सेंट्रल इंडिया रेलवे द्वारा 1862 में चलाया गया था।

  • प्रथम प्लेटफार्म टिकट

 भारत में प्रथम प्लेटफॉर्म टिकट सिंध, पंजाब एवं दिल्ली रेलवे द्वारा लाहौर में जारी किया गया।

  • प्रथम यात्री टिकट रिजर्वेशन

 भारत में प्रथम यात्री टिकट रिजर्वेशन जमशेद जी ने अपने पूरे परिवार के लिए 17 अप्रैल 1853 को मुंबई से थाने के बाद यात्रा करने के लिए कराये थे।

  •  प्रथम मेट्रो ट्रेन

 भारत में प्रथम मेट्रो ट्रेन 24 अक्टूबर 1984 कोलकाता में चलाया गया।

  •  प्रथम एलिवेटेड रेलवे

 भारत में प्रथम एलिवेटेड रेलवे 15 नवंबर 1995 को चेन्नई में चलाया गया था। यह ट्रेन मद्रास और चेपॉक के बीच चलाया गया।

  •  प्रथम एयर कंडीशंड ट्रेन 

 भारत में प्रथम पूर्ण रूप से एयर कंडीशंड ट्रेन, राजधानी ट्रेन मुंबई से दिल्ली के मध्य 1990 में चलाया गया।

  •  प्रथम विद्युतकृत रेलवे लाइन 

 भारत में प्रथम बार रेलवे का विद्युतीकरण मुंबई पुणे लाइन का 1925 में किया गया।

  •  प्रथम विद्युत ट्रेन

 भारत में प्रथम इलेक्ट्रिक ट्रेन 3 फरवरी 1925 को मुंबई वीटी से कुर्ला के मध्य चलाई गई थी।

  •  सबसे लंबा रेलवे प्लेटफार्म

 विश्व में सबसे लंबा रेलवे प्लेटफॉर्म गोरखपुर उत्तर प्रदेश में स्थित है। इसकी लंबाई 1366 मीटर है।

  •  प्रथम महिला रेल ड्राइवर

भारत के प्रथम महिला रेल ड्राइवर सुरेखा यादव है। यह मुंबई के रहने वाली थी । इसने वर्ष 1990 में रेलवे ज्वाइन थी।

 भारतीय रेल से संबंधित जानने योग्य महत्वपूर्ण बिंदु  

  •  भारतीय रेल 13.94 लाख कर्मचारियों के साथ विश्व का सबसे बड़ा नियोक्ता है।
  •  भारतीय रेल विश्व की दूसरी सबसे बड़ी तथा एशिया की सबसे बड़ी रेलवे उपक्रम है।
  •  वर्ष 1986 में नई दिल्ली में पहली बार कंप्यूटराइज्ड रिजर्वेशन सिस्टम का प्रारंभ हुआ।
  •  रेल में प्रथम श्रेणी में टॉयलेट 1891 में तथा निम्न श्रेणी में वर्ष 1960 में प्रारंभ किया गया।
  •  स्वतंत्रता से पूर्व भारत में 42 रेलवे कंपनियां मौजूद थी।
  •  भारतीय रेल 16 क्षेत्रीय रेलवे तथा 69 मंडलों में बटा हुआ है।
  •  सबसे पुराना लोकोमोटिव फेयरी क्वीन (1855) है।
  •  राष्ट्रीय रेल संग्रहालय नई दिल्ली में स्थित है। इसका गठन 1977 में हुआ था।
  •  भारत में प्रथम ब्रॉडगेज रेलवे वर्ष 906 में मद्रास एवं दक्षिण मराठा रेलवे द्वारा चलाई गई थी।
  •  भारत में उत्तर पश्चिम रेलवे द्वारा कोलकाता एवं शिमला में प्रथम नैरोगेज कार 1911 में चलाई गई।
  •  भारत में रेल कोच में इलेक्ट्रिक लाइट 1902 में पहली बार जोधपुर रेलवे द्वारा शुरू किया गया। वर्ष 1907 तक सभी कोच में इलेक्ट्रिक लाइट बहाल करा दिया गया।
  •  पूर्व में कोचों में दरवाजा बाहर की तरफ खुला करता था। सभी कोचों में वर्ष 1909 में प्रथम बार अंदर खुलने वाले दरवाजे  लगाए गए।
  •  शुरुआत में कोचेज चार पहिए वाले हुआ करते थे। 8 पहिए वाले कोचों की शुरुआत 1903 में किया गया।
  •  भारतीय रेलवे में पहली बार स्टील के अंडर फ्रेम कोचों की शुरुआत 1891 में किया गया।
  •  पहली बार डाइनिंग सैलून 1903 में मुंबई में प्रयोग किया गया।
  •  रेलवे में रोलर बेयरिंग एक्सेल बॉक्स का प्रारंभ 1930 में हुआ।
  •  रेलवे में तृतीय श्रेणी कोचों में सीलिंग फैन 1953 में लगाए गए। इसके लिए तत्कालीन रेल मंत्री लाल बहादुर का बहुत बड़ा योगदान रहा।
  •  भारत में प्रथम वातानुकूलित कोच वर्ष 1936 में मटुंगा वर्कशॉप द्वारा निर्मित किया गया। 

3 thoughts on “History of Indian Railway |भारतीय रेल का इतिहास”

Leave a Comment